Sunday, 30 June 2013

सार

                       कर्तव्य बोधपरक संस्कार और शिक्षा से निर्मित आचरण ही मानव जाति के कल्याण का एकमात्र साधन है। 

3 comments:

S.P. Sharma said...

agreed

सुज्ञ said...

सही बात!!

Kailash Sharma said...

बिल्कुल सही...