Tuesday, 23 April 2013

जीवन लक्ष्य

दौलत तो दौलत है यारो, दौलत का क्या कहना है।                                                आजजगत में दौलत ही, मानव जाति का गहना है।                                                             दौलत ही आज, मानवजीवन का उद्देश्य बन चुका है।                                                   लगता है मानवधर्म तो, बिल्कुल आज छन चुका  है।                                                       हर आसन पर बैठा मानव, दौलत को ही तलाश रहा।                                                   दौलत की तुलना में अब, कोई न किसीका खास रहा।                                                     रिश्तो में भी हम सभी आज, खोज रहे है दौलत को।                                                         जैसे ऊपरवाले को देनी हो, हमें जीने की मोहलत को।                                                 दौलत के चक्कर में हम, अब तो जीना ही भूल रहे।                                                              इसकी खातिर तो अब हम,सारे रिश्ते भी भूल रहे।                                                            पता नहीं हमकोही आज,हम अंधी दौड़ में दौड़ रहे।                                                            जन्म दाता को भी हम,दौलत की खातिर छोड़ रहे।
Post a Comment