Tuesday, 23 April 2013

जीवन लक्ष्य

दौलत तो दौलत है यारो, दौलत का क्या कहना है।                                                आजजगत में दौलत ही, मानव जाति का गहना है।                                                             दौलत ही आज, मानवजीवन का उद्देश्य बन चुका है।                                                   लगता है मानवधर्म तो, बिल्कुल आज छन चुका  है।                                                       हर आसन पर बैठा मानव, दौलत को ही तलाश रहा।                                                   दौलत की तुलना में अब, कोई न किसीका खास रहा।                                                     रिश्तो में भी हम सभी आज, खोज रहे है दौलत को।                                                         जैसे ऊपरवाले को देनी हो, हमें जीने की मोहलत को।                                                 दौलत के चक्कर में हम, अब तो जीना ही भूल रहे।                                                              इसकी खातिर तो अब हम,सारे रिश्ते भी भूल रहे।                                                            पता नहीं हमकोही आज,हम अंधी दौड़ में दौड़ रहे।                                                            जन्म दाता को भी हम,दौलत की खातिर छोड़ रहे।

5 comments:

Aziz Jaunpuri said...

bahut sundar, daulat ka ganda khel chal raha hai

उपासना सियाग said...

दौलत भी जरुरी है लेकिन रिश्तों से बढ़ कर नहीं ....आपने सही लिखा

bharadwajgwalior.blogspot.com said...

dhanyabad ji

bharadwajgwalior.blogspot.com said...

vahi to ho raha hai bahan ji. jaruri to aadi kaal se hi thi daulat magar sarvopari nahi thi aaj sarvopari ho rahi hai.

shoumik das said...

ur poem is just in one word awesome