Saturday, 3 March 2012

मेरा विचार

जो होते काम को अटकाएं,                                                                                                         
 वे लोक सेवक यंहा कहलायें.                                                                        
 जनता से लेते है वेतन,                                                                                                                                         उसी के काम का करते नहीं मन.                                                                  
 वो जब तक जेब न भरपायें                                                            .                                                                     वे लोक सेवक यंहा कहलाये.                                                                          
 यंहा कर्तव्य न उनका कोई है,                                                                                                                            ले-दे कर करवालो सोई है.                                                                                
 फाइलों में रखें वो भरमाये.                                                                                                                             वे लोक सेवक यंहा कहलायें.                                                                              
लोगो के शव भी जब जलतेहै,                                                                                                                      वो शवयात्रा में भी चलते है.                                                                                          
 तेरह दिन साथ में भी रोते है,                                                                                                    
शांतिभोज में भी शामिल होते हैं.                                                                            
 पर प्रमाण-पत्र वो तभी बनायें,                                                                                                                    जब अंटी ढीली करवाएं.                                                                                        
 वे लोक सेवक यंहा कहलायें.                                                                                                                            समाज में भी उनका होता है कद,                                                                            
 क्योंकि उनके पास होता है पद.                                                                                                                          उसका मुफ्त में रौब जमायें.                                                                                  
 वे लोक सेवक  यंहा कहलायें.                                                                                                                       अपना परिचय पद से देते हैं,                                                                        
 सारी संभव  सुविधाएँ लेते हैं.                                                                                                                         पर जनता से चक्कर कटवाएं,                                                                              
 वो जब तक जेब न भरपायें .                                                                                                                            वे लोक सेवक यंहा कहलायें.                                                                              
 मन मैं पाल लो बेशक टुनकी,                                                                                                                      करो शिकायत कंही भी उनकी.                                                                            
 शिकायत का वो मखौल उड़ायें,                                                                                                                       उनका कुछ भी बिगाड़ न पायें .                                                                            
 वे लोक सेवक यंहा कहलायें.
Post a Comment