Sunday, 2 June 2013

प्रश्न

क्यों ये जीवन फूल खिलता है?                                                                                            
 प्रश्न बहुत छोटा है,                                                                                                              
 पर बहुत ही अनूठा है,                                                                                                            
 समाधान नहीं मिलता है।                                                                                                         
 क्यों ये जीवन फूल खिलता है?                                                                                                  
 परिवार को जिए नहीं,                                                                                                              
समाज को कुछ किये नहीं,                                                                                                      
 आदर्श भी कुछ दिए नहीं,                                                                                                  
 समाधान नहीं मिलता है।                                                                                                   
 क्यों ये जीवन फूल खिलता है?                                                                                                
 हो न सके माँ बाप के,                                                                                                              
 सपने बुने अपने आपके,                                                                                                        
 वो भी पूरे हुए नहीं,                                                                                                                
 समाधान नहीं मिलता है।                                                                                                     
 क्यों ये जीवन फूल खिलता है?                                                                                              
 चैन नहीं एक पल,                                                                                                              
 हम ये करेंगे कल,                                                                                                                  
 काम आज ख़त्म नहीं,                                                                                                            
 समाधान नहीं मिलता है।                                                                                                     
 क्यों ये जीवन फूल खिलता है?                                                                                              
 कल की आस में,                                                                                                                    
 धन की तलाश में,                                                                                                                
 शौहरत की प्यास में,                                                                                                      
 समाधान नहीं मिलता है।                                                                                                    
 क्यों ये जीवन फूल खिलता है?                                                                                           
 रातों-रात जागते,                                                                                                                  
दिनभर रहे भागते,                                                                                                                 
आज तक न पहुंचे कहीं,                                                                                                          
 समाधान नही मिलता है।                                                                                                       
 क्यों ये जीवन फूल खिलता है?

7 comments:

sadhana vaid said...

Very good. Har insan ke jeevan ki tasweer kheench di apne.

उपासना सियाग said...

बहुत सुंदर रचना और प्रश्न भी .....

Kailash Sharma said...

कल की आस में, धन की तलाश में, शौहरत की प्यास में, समाधान नहीं मिलता है।

....बहुत सुन्दर और सटीक रचना...

bharadwajgwalior.blogspot.com said...

dhanyabaad ji aap sabako.

Asha Saxena said...

खूबसूरत भाव लिए रचना |
आशा

bharadwajgwalior.blogspot.com said...

dhanyabad ji bhav vichar to sab janate hai apani to sirf tukabandi hai jo ho jaye.

Anju (Anu) Chaudhary said...

bahut khub