Sunday, 5 May 2013

आधुनिक वन मानुष

वन मानुष से परिवार, कबीले फिर गाँव बसाये।                                                                          
 जब और हुए हम सभ्य,समाज अरु नगर बनाये।                                                                    
 बढ़ती सभ्यता के साथ हमीने शहर,राज्य बढ़ाए।                                                                           
सभ्यता के साथ हमारा दायरा भी बढ़ता गया।                                                                            
इसीलिए बसता भी गया शहर नित नित ही नया।                                                                        
पर आज तो हम ज्यादा ही सभ्य होते जा रहे है।                                                                          
वन मानुष की तरह फ्लैट को घोंसला बना रहे है।                                                                         
गाँव समाज तो मिट ही रहे परिवार भी मिटा रहे है।                                                                        
 मौसमी पक्षियों की तरह कंही भी उड़ते जा रहे है।                                                                      
खून के रिश्तों को भी हम आज खोते जा रहे हैं।                                                                          
 वन मानुष के पर्यायवाची ही हम शहरी होते जा रहे है।      
Post a Comment