Friday, 26 April 2013

प्रशिक्षण

सोच,समाज,संस्कार और शिक्षा,सबका सबक एक है आज।                                                          
 अगर धनी हो जाओगे तुम,तो शिरोधार्य कर लेगा ये समाज।                                                      
 येन केन प्रकारेण  धन के भंडार,तुमको है जीवन में भरना।                                                        ठगी,बेईमानी,क़त्ल,व्यभिचार, जी में आये वो तुम करना।                                                      
 आज न फिर कोई भी शख्स यंहा,तुम पर उंगली उठाना चाहेगा।                                                    
 बल्कि खास अवसरो पर,आपको ही सम्मानित किया जायेगा।                                                  
 जितना ज्यादा भंडार भरा होगा तो,कोई न कुछ भी कर पायेगा।                                              
 कभी ज्यादा ही कुछ हुआ तो, मामला जाँच में उलझ ही जायेगा।                                                
साक्ष्य अरु गवाह के अभाव में,या तो स्वतः बंद हो ही जायेगा।                                                  
 फिर भी ज्यादा कुछ हुआ तो, फैसला मरने के बाद ही आपायेगा।                                                     भले बेमौत हुई हो,फैसले के दिन तो,समाचारों में नाम छा जायेगा।                                              
 इतना सम्मान,सुविधा मिलने पर,कोई मूर्ख ही उधर नहीं जायेगा।                                              
आज का सबक सीखने वाला तो, हर हाल में सिर्फ धन ही कमाएगा।                                                    लक्ष्य की खातिर,देश क्या,माँ,बाप,बहन,बेटी की भी कीमत लगाएगा।  

1 comment:

Dev Nischal said...

I heard, our ancetors predicted dawn of Kaliyug and all these thing will happen. Today all these are happening. But let us do our duty and write against bad.